Dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi. Dr Sarvepalli Radhakrishnan Biography Essay In Hindi 2019-01-06

Dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi Rating: 7,4/10 480 reviews

महान शिक्षक डॉक्टर सर्वेपल्ली राधाकृष्णन (Dr. Sarvepalli Radhakrishnan Biography In Hindi)

dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi

इनकी माता का नाम सीताम्मा था. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का निधन हो गया। शिक्षा के छेत्र में इनका योगदान हमेशा यदकिया जाता है। इसलिए हर साल देश विदेश में 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस मनाया जाता है। डॉ. यदि आपको इसमें कोई भी खामी लगे या आप अपना कोई सुझाव देना चाहें तो आप नीचे comment ज़रूर कीजिये. Sarvepalli Radhakrishnan सर्वपल्ली राधाकृष्णन Quote 17: Human life as we have it is only the raw material for Human life as it might be. साहब ने अपने धर्म के प्रति विश्वास रखते हुए ,अनेक ग्रंथों और शास्त्रो का अध्यन किया था और फिर सभी लोगों को अपने धर्म के प्रति जागरूक किया। राधाकृष्णन जी सम्पूर्ण विश्व को ही एक school के रूप में मानते थे। इनके अनुसार शिक्षक का काम सिर्फ छात्रों को शिक्षा देना ही नहीं है ,बल्कि शिक्षक को विद्यार्थी का बौद्धिक विकास भी करना चाहिए और उस में देश के प्रति सम्मान की भावना भी जागृत करनी चाहिए। इनके अनुसार शिक्षक को सिर्फ शिक्षा देकर ही नहीं सन्तुष्ट हो जाना चाहिए ,बल्कि छात्रों से प्रेम और सम्मान भी हासिल करना चाहिए। शिक्षक के गुणों को बताते हुए डॉ. He was offered the professorship at the University of Calcutta in 1921 where he assumed the King George V Chair of Mental and Moral Science.

Next

Dr Sarvepalli Radhakrishnan Biography in Hindi

dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi

उनके पिता राजस्व विभाग में काम करते थे. Sarvepalli Radhakrishnan सर्वपल्ली राधाकृष्णन Quote 2: All our world organizations will prove ineffective if the truth that love is stronger than hate does not inspire them. In Hindi: शांति राजनीतिक या आर्थिक बदलाव से नहीं आ सकते बल्कि मानवीय स्वभाव में बदलाव से आ सकती है. राधाकृष्णन 13 मई सन 1952 से 13 मई सन 1962 तक बे देश के उपराष्ट्रपति रहे। और 13 मई सन 1962 को ही बे हमारे देश के राष्ट्रपति भी बने। राजेंद्र प्रसाद की तुलना में इनका कार्य कल काफी चुनोतियो से भरा हुआ था क्युकी उस समय भारत का चीन और पाकिस्तान के साथ युद्ध हुए जिसमे चीन के साथ भारत को हर का सामना करना पड़ा। और बही दूसरी तरफ भारत के दो प्रधान मंत्री का देहांत भी इन्हे के कार्यकाल में हुआ था। डॉ. जब डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन अपने युरोप और अमेरिका दौरे से पुनः भारत लौटे थे. किया और मद्रास रेजीडेंसी कॉलेज में इसी विषय के सहायक प्राध्यापक का पद संभाला। डॉ. इनके पिता का नाम सर्वपल्ली विरास्वामी था.

Next

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन के 28 अनमोल विचार Teachers Day Quotes in Hindi

dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi

स्वयं के साथ ईमानदारी आध्यात्मिक अखंडता की अनिवार्यता है. It was then that Sir Ashutosh Mukherjee, the well-known Vice- Chancellor of Calcutta University invited him there as Professor. दिल से देशी वेबसाइट का उद्देश्य भारत के प्रत्येक नागरिक तक ऐसी जानकारियाँ पहुँचाना है जिन तक वे पहुँच नहीं पाते. Sarvepalli Radhakrishnan सर्वपल्ली राधाकृष्णन Quote 11: Reading a book gives us the habit of solitary reflection and true enjoyment. Sarvepalli radhakrishnan's visit dr sarvepalli radhakrishnan' 'ड 0.

Next

डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi

In Hindi: कला मानवीय आत्मा की गहरी परतों को उजागर करती है. के कुलपति भी रहे। वे एक दर्शनशास्त्री, भारतीय संस्कृति के संवाहक और आस्थावान हिंदू विचारक थे। इस मशहूर शिक्षक के सम्मान में उनका जन्मदिन भारत में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है। आरम्भिक जीवन: बचपन से किताबें पढने के शौकीन राधाकृष्णन का जन्म तमिलनाडु के तिरुतनी गॉव में 5 सितंबर 1888 को हुआ था। साधारण परिवार में जन्में राधाकृष्णन का बचपन तिरूतनी एवं तिरूपति जैसे धार्मिक स्थलों पर बीता । वह शुरू से ही पढाई-लिखाई में काफी रूचि रखते थे, उनकी प्राम्भिक शिक्षा क्रिश्चियन मिशनरी संस्था लुथर्न मिशन स्कूल में हुई और आगे की पढाई मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज में पूरी हुई। स्कूल के दिनों में ही डॉक्टर राधाकृष्णन ने बाइबिल के महत्त्वपूर्ण अंश कंठस्थ कर लिए थे , जिसके लिए उन्हें विशिष्ट योग्यता का सम्मान दिया गया था। कम उम्र में ही आपने स्वामी विवेकानंद और वीर सावरकर को पढा तथा उनके विचारों को आत्मसात भी किया। आपने 1902 में मैट्रिक स्तर की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की और छात्रवृत्ति भी प्राप्त की । क्रिश्चियन कॉलेज, मद्रास ने भी उनकी विशेष योग्यता के कारण छात्रवृत्ति प्रदान की। डॉ राधाकृष्णन ने 1916 में दर्शन शास्त्र में एम. Radhakrishnan wrote his thesis for the M. Sarvepalli Radhakrishnan सर्वपल्ली राधाकृष्णन Quote 6: Arts reveal to us the deeper layers of the human soul. He joined Voorhees College in Vellore but switched to the Madras Christian College at the age of 17. परिवार की पूरी जिम्मेदारी इनके पिताजी पर ही थी. तक की शिक्षा वेल्लोर में ली और बाद में मद्रास के क्रिश्चियन कॉलेज में पढ़े क्रिस्टियन कॉलेज काफी प्रसिद्ध था और वहा से कई अन्य प्रमुख व्यक्तियों ने भी शिक्षा प्राप्त की थी मिशनरी संस्थाओं में शिक्षा प्राप्त करने के दो प्रभाव हुए — एक तो अंग्रेजी भाषा पर अधिकार , दुसरे हिन्दू धर्म के संबध में सोचने का अवसर , जिसने धीरे धीरे आस्था का रूप धारण कर लिया ईसाई मिशनरी तो हिन्दू धर्म की बड़ी आलोचना करते थे परन्तु डॉ.

Next

डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जीवनी

dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi

Duration: marathi and radhakrishnan in hindi dr sarvepalli radhakrishnan - ड jun 8, न बंध, sarvepalli radha krishnan in english hindi english. राधाकृष्णन जी तिरूपति मं ही थे। फिर उसके बाद चार वर्ष तक वेल्लूर के विद्यालय में आगे की शिक्ष प्राप्त की। कॉलेज उन्होंने मद्रास में किश्चियन का एक कॉलेज था वहा पर दर्शन-शास्त्र के विषय में एम. Sarvepalli Radhakrishnan सर्वपल्ली राधाकृष्णन Quote 19: Spiritual life is the genius of India. बाद में उसी कॉलेज में वे प्राध्यापक भी रहे. Prior to this, he had served as the first Vice President of India from 1952 to 1962. व्यवसाय Philosopher, Professor1916 में वे मद्रास रेजीडेंसी कॉलेज में दर्शनशास्त्र के सहायक प्राध्यापक नियुक्त हुए. In Hindi: हमें मानवता को उन नैतिक जड़ों तक वापस ले जाना चाहिए जहाँ से अनुशाशन और स्वतंत्रता दोनों का उद्गम हो.


Next

Sarvepalli Radhakrishnan Biography

dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi

राधाकृष्णन ने बहुत समय तक ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ाया । साथ में ही उन्हें इंग्लैंड के दूसरे शहरों में भी व्याख्यान देने का अवसर मिला । इस प्रकार उन्हें कई शहरों में सम्मान प्राप्त हुआ । यहां तक कि एक बार तो पोप ने भी डॉ. Being a financially constrained student, when a cousin who graduated from the same college passed on his philosophy textbooks in to Radhakrishnan, it automatically decided his academic course. Religion is the conquest of fear ; the antidote to failure and death. Sarvepalli Radhakrishnan Biography in Hindi डॉ. Sarvepalli Radhakrishnan सर्वपल्ली राधाकृष्णन Quote 14: If a man becomes demon it is his defeat, if a man becomes superman it is his magical feat,if a man becomes human it is his victory. इसके लिये उन्हें विशिष्ट योग्यता का सम्मान प्रदान किया गया.

Next

डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जीवनी

dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi

राधाकृष्णन का परिवार इतना निर्धन न था पर धनी भी न था खर्चा चलता था परन्तु कॉलेज की पढाई चलाना कठिन था इसके लिए युवा राधाकृष्णन को ट्यूशन पढ़ानी पढती वह अपने से नीचे की कक्षाओ के विद्याथियो को ट्यूशन पढाते थे पढाई के बाद वह 1908 में मद्रास प्रेसीडेंसी कॉलेज में अस्सिटेंट प्रोफेसर हो गये परन्तु मद्रास राज्य की शिक्षा सेवा के लिए प्रशिक्षित होना आवश्यक था इसलिए टीचर्स कॉलेज सैदापेट में प्रविष्ट हुए डॉ. वीरास्वामी के पाँच पुत्र तथा एक पुत्री थी. सर्वपल्ली राधाकृष्णन पर 250 शब्द का निबंध डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का जन्म पांच सितम्बर 1888 में तेलुगू में एक एक ब्राहाम्ण परिवार में हुआ, वे तिरतनी राज्य में जहां तिरूपति और भारत के सबसे जाने माने पवित्र और धार्मिक जगह है,वही पर उन्होंने आठ वर्षं बचपन में बिताएं। राधाकृष्णन जी की आरंभिक शिक्षा-दिक्षा मिशनरी जो कि क्रिश्चयन संस्थान है उसकी लुथार्न नाम की स्कूल में हुई। उस समय डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का राजनीती जीवन दोस्तों डॉ. तक वेल्लूर से इन्होंने शिक्षा ग्रहण की। इसके बाद इन्होंने मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज ,मद्रास से अपनी graduation की degree complete की। क्रिश्चियन school और college में पढ़ने की वजह से ही इन्हें बाइबिल दी जाती थी और इन्होंने Bible के महत्वपूर्ण अंशों को कंठस्थ किया ,जिसके कारण इन्हें सम्मानित भी किया गया। इन्होने 1916 ई.

Next

Dr radhakrishnan essay in hindi

dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi

वर्ष 1903 में इनका विवाह अपनी दूर की बहन सिवाकामू से साथ हुआ. यह तभी सम्भव है जब समस्त देशों की नीतियों का आधार विश्व-शान्ति की स्थापना का प्रयत्न करना हो. की। इसके बाद मद्रास रेजीडेंसी कॉलेज में सहायक प्राध्यापक के रूप में चयनित हुए। इसके पहले यह tuisions भी पढ़ाते थे। इनके पढ़ाने का तरीका अन्य शिक्षकों से कुछ हटकर ही था। डॉ. Dillip kumar behura about dr radhakrishnan. He is the main reason for teachers day. Radhakrishnan studied philosophy by chance rather than the choice he was a financially constrained student, when one of his cousin who graduated from the same college passed on his philosophy textbooks into Radhakrishnan, it automatically decided his academic course.


Next

Dr. Sarvepalli Radhakrishnan Biography in Hindi / डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जीवनी

dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi

डॉ॰ राधाकृष्णन ने अपने लेखों और भाषणों के माध्यम से विश्व को भारतीय दर्शन शास्त्र से परिचित कराया. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जय-जयकार से गूँज उठा था। ये वो पल था जहाँ हर किसी की आँखे उनकी विदाई पर नम थीं। उनके व्यक्तित्व का प्रभाव केवल छात्राओं पर ही नही वरन देश-विदेश के अनेक प्रबुद्ध लोगों पर भी पङा। रूसी नेता स्टालिन के ह्रदय में फिलॉफ्सर राजदूत डॉ. इसके बाद अध्यापन कार्य करते हुए ये कई विश्वविद्यालयों के कुलपति, रूस में भारत के राजदूत और 10 वर्ष तक भारत के उपराष्ट्रपति और अंत में सन 1962 से 1967 तक भारत के राष्ट्रपति रहे. Sarvepalli Radhakrishnan सर्वपल्ली राधाकृष्णन Quote 22: Wealth, power and efficiency are the appurtenances of life and not life itself. Sarvepalli Radhakrishnan Biography in Hindi डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जीवनी और जीवन परिचय क्रमांक Particular Detail 1.

Next

महान शिक्षाविद डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

dr sarvepalli radhakrishnan biography in hindi

उनका कहना था कि देश के शिक्षक राष्ट्रनिर्माण में महतवपूर्ण भूमिका निभाते हैं. राधाकृष्णन को देश की संस्कृति से प्यार था शिक्षक के रूप में उनकी प्रतिभा,योग्यता और विद्यता से प्रेरित होकर ही उन्हें सविधान निर्मात्री सभा का सदस्य बनाया गया वे प्रसिद्ध विश्वविधालयो के उपकुलपति भी रहे। भारत की आज़ादी के बाद डा. सर्वपल्ली राधाकृष्णन पर एक निबंध हिंदी भाषा में. राधाकृष्णन सोवियत संघ में राजदूत बने 1952 तक वे रूस में राजनयिक रहे। उसके बाद उनको भारत के उपराष्ट्रपति नियुक्त किया गया, 1962 में डा. राधाकृष्णन ने भी यही तरीका अपनाया । अपने इसी दृष्टांत के कारण वे पूर्व को पश्चिम से तथा पश्चिम को पूर्व की बात समझाने मैं निपुण हो गए । डी.

Next